Trending Now

यदि आपको भी बार-बार उंगलियां चटकाने का शौक है तो आप हो सकते हैं इस गंभीर बीमारी का शिकार


Social18 पर आप सभी का फिर से स्वागत है. हम आपके लिए हर रोज देश और दुनिया से जुडी रोचक ख़बरें, एंटरटेनमेंट और सेलेबस सम्बंधित मजेदार जानकारी, घर बैठे पैसे कैसे कमायें, स्वास्थ्य संबंधी महत्वपूर्ण जानकारी, टेक्निकल टिप्स और ट्रिक्स तथा सरकारी नौकरी से संबंधित सभी जरूरी जानकारी लेकर आते रहते हैं. आज के नए टॉपिक के साथ हम फिर से हाजिर हैं.

दोस्तों, अक्सर देखा जाता है लोग काम करते समय या खाली समय में अपने हाथों की उँगलियों को चटकते रहते हैं. उन्हें इस बात का बिल्कुल भी अंदाजा नहीं होगा कि वो इस तरह अपना कितना नुक्सान कर रहे हैं. कुछ लोगों को तो इसकी इतनी गन्दी आदत पड़ जाती है दिन में कई-कई बार ये काम करते हैं.
डॉक्टरों की रिपोर्ट के मुताबिक़, जो लोग दिन में सिर्फ 1 या 2 बार उंगलियां चटकाते हैं तो उनके लिए ज्यादा सोचने वाली बात नहीं है, लेकिन जो लोग दिन में इससे ज्यादा बाद ऐसा करते हैं तो उन्हें जोड़ों के दर्द की सम्भावना बढ़ जाती है. अक्सर देखा जाता है कि जब लोग काफी थक जाते हैं तो अपने हाथों की उँगलियाँ चटकाते हैं. हालाँकि इससे हाटों को थोडा आराम जरूर मिलता है लेकिन भविष्य के लिए ये काफी खतरनाक साबित हो सकता है.
बता दें, हमारी उंगलियों की हड्डियां लिगामेंट से एक दूसरे से जुड़ी हुई रहती हैं लेकिन जब हम उन उंगलियों को चटकाते हैं तो हड्डियों में दरार आनि शुरू हो जाती है. इससे गठिया बाय की समस्या उत्पन्न होने की सम्भावना बहुत बढ़ जाती है. इसके साथ ही ये धीरे-धीरे काफी कमजोर होती जाती हैं, जिससे थोड़ी भी चोट या दवाब पड़ने से इनको काफी नुक्सान हो सकता है.
दिन में बार-बार उंगलियां चटकाना आपकी हड्डियों को कमजोर कर देता है, जिससे उनके टूटने की संभावना भी बढ़ जाती है. इसलिए इस बात का हमेशा ध्यान रहे कि बार बार उँगलियों को चटकाने की बुरी आदत को तुरंत बदल डालें, वरना इससे आप बड़े खतरे को न्योता दे सकते हैं. कई रिपोर्ट से ये पता चला है कि अक्सर लोग इस बारे में सीरियस तब होते हैं जब काफी देर हो जाती है तो आप उस देर का इंजर ना करें और पहले ही संभल जाएँ.

कृपयापोस्ट को लाइक और शेयर करें. रोजाना ऐसी ही मजेदार और रोचक पोस्ट पढने के लिए हमें सब्सक्राइब करना बिलकुल ना भूलेंधन्यवाद. अगले नए टॉपिक को लेकर हम आपके सामने जल्द ही हाजिर होंगे, तब तक के लिए हँसते रहिये और मुस्कुराते रहिये और देखते रहिये Social18.

No comments